Friday, 1 May 2020

इरफान के निधन के बाद पहली बार पत्नी सुतापा की तरफ से आया चौंकाने वाला बयान! बताई शिकायत की वजह


Irrfan Khan wife statement

29 अप्रैल के दिन दुनिया को अलविदा कहने वाले एक्टर इरफान खान की यादें हमेशा लोगों के जहन में रहेंगी. वो चाहे उनके कला के माध्यम से हो, तस्वीरों के माध्यम से हो या फिर उनके विचारों के माध्यम से हो. भले ही इरफान खान हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनकी चर्चाओं हर दिन होती हैं. इन दोनों हर कोई उन्हें याद कर रहा है, दुनियाभर से उन्हें लेकर कई शोक संदेश भी आए हैं. इसी बीच इरफान खान के परिवार के तरफ से भी पहली बार एक बयान जारी किया गया है. जिसे पढ़ने के बाद आपकी भी आंखे नम हो जाएंगी. इस संदेश में इरफान की पत्नी सुतापा और उनके बच्चे के वो जज्बात हैं, जिसे पढ़ने के बाद आपका भी गला रूंध जाएगा. ये भी पढ़ें:- तो इसलिए जीना चाहते थे एक्टर इरफान खान, मौत से पहले किया था बड़ा खुलासा इस संदेश की शुरूआत में कहा गया है कि, "मैं इसे एक परिवार के बयान के रूप में किस तरह लिखूं, जब पूरी दुनिया इसे व्यक्तिगत नुकसान के रूप में ले रही है..? इस समय लाखों की दुआएं हमारे साथ हैं, तो आखिर मैं अकेला महसूस कैसे कर सकती हूं..? इसलिए अभी मैं हर किसी को आश्वस्त करना चाहता हूं कि ये नुकसान नहीं है, बल्कि लाभ है. ये उन चीजों का लाभ है जो उसने हमें सिखाई थीं, और अब हम इसे लागू करना और विकसित करना शुरू करेंगे. साथ ही ये भी कहा है कि, अभी भी मैं उन सभी चीजों को भरने की कोशिश करना चाहती हूं, जिससे आज भी लोग अनजान हैं. ये वाकई हमारे लिए अविश्वसनीय है लेकिन मैं इसे इरफान के शब्दों में डालूं तो, "यह जादुई है". भले ही वो यहां है या नहीं, लेकिन जो वो प्यार करता था वो कभी भी एकतरफा नहीं था. सिर्फ एक चीज है जो मुझे उससे शिकायत है. बयान में कहा गया है कि उसने मुझे जिंदगी भर के लिए बिगाड़ दिया है. हमेशा के लिए उनकी कोशिश मुझे किसी भी सिंपल चीज के लिए अरेंज नहीं करती है. लेकिन उनकी एक लय थी जिसे उन्होंने हर चीज में देखा, यहां तक कि कैकोफनी और अराजकता में भी, उस समय मैनें भी उन्हीं चीजों में ढलना सीख लिया था. मजेदार बात तो ये है कि जो हमारा जीवन था वो अभिनय में एक मास्टरक्लास था, यही वजह है कि जब "बिन बुलाए मेहमान" की भी एंट्री हुई, तब तक मैं मतभेदों में भी हार मानना सीख चुकी थी. उस गदौरान डॉक्टर के द्वारा जो रिपोर्ट दी गई वो भी मेरे लिए उन्हीं स्क्रिप्टों की तरह थी, जिन्हें मैं परिपूर्ण करना चाहती थी. यही खास कारण था कि मैंने उनकी किसी भी परफॉर्मेंस में कमी की एक भी डिटेल को मिस नहीं किया. हालांकि इस जरनी में हमरी मुलाकार कई अलग-अलग लोगों से भी हुई और वाकई वो लिस्ट अंतहीन है, लेकिन कुछ ऐसे भी हैं जिनका मुझे उल्लेख करना है, हमारे ऑन्कोलॉजिस्ट डॉ, नितेश रोहतोगी (मैक्स अस्पताल साकेत) जिन्होंने शुरू में ही हमारा हाथ थाम रखा था, डॉ. डेन क्रेल (यूके), डॉ. शिद्रवी (यूके), मेरे दिल की धड़कन और अंधेरे में मेरी लालटेन डॉ. सेवंती लिमये (कोकिलाबेन अस्पताल). यह समझाना मुश्किल है कि यह यात्रा कितनी शानदार, दर्दनाक और रोमांचक रही है. मुझे ऐसा महसूस होता है कि ये ढाई साल का अवकाश रहा है, जिसने इरफान के कंडक्टर की भूमिका को निभाने में एक शुरुआत के साथ मध्य और अंत भी रहा. हम एक-दूसरे के साथ 35 से जुड़े रहे. खास बात ये है कि ये हमारी शादी का रिलेशन नहीं बल्कि एक मिलन था. क्योंकि मैं अपने छोटी सी फैमिली को एक नाव में देखती हूं. मेरे दोनों बेटे बाबिल और अयान भी मेरे साथ हैं. इसे आगे बढ़ाने में इरफान के निर्देश उनके साथ हैं. लेकिन ये सच है कि जीवन सिनेमा नहीं है क्योंकि इसमें कोई रीटेक नहीं होते हैं. इसलिएय ईमानदारी से मैं यही कामना करती हूं कि मेरे बच्चे इसी नाव को अपने पिता के द्वारा दिखाए गए मार्गदर्शन के माध्यम से यूं ही सुरक्षित तरीके से इसे चलाते रहे और रॉकबाय करें. मैंने अपने बच्चों से पूछा, यदि संभव हो, तो वो अपने पिता के द्वारा पढ़ाए गए सबक को अपनी जिंदगी में जोड़े जो उनके लिए जरूरी है. बाबिल: 'अनिश्चितता के नृत्य के लिए आत्मसमर्पण करना सीखें और ब्रह्मांड में अपने विश्वास पर विश्वास करें". अयान: "अपने मन को कंट्रोल करना सीख लें." आंसू बहेंगे जब हम उनका पसंदीदा रात की रानी का पेड़ हम उस जगह पर लगाएंगे जहां हमने उन्हें शानदार सफर के बाद दफनाया है. इसमें समय लगता है लेकिन यह खिल जाएगा और खुशबू फैल जाएगी और उन सभी आत्माओं को स्पर्श कर लेगा जिन्हें मैंने प्रशंसकों नहीं बल्कि आने वाले वर्षों के लिए परिवार कहा था." ये भी पढ़ें:- इस बीमारी ने इरफान खान की ही नहीं, बल्कि इन सितारों की भी ले चुका है जान

SHARE THIS

Author:

0 comments: